All Rights are Reserved


मारे इर्द-गिर्द लाखों घटनाएँ रोज घटती हैं और अगर हम उनको किसी के साथ न बांटें तो ये हमारे अंदर घुटन पैदा करती हैं ,आज मैनें यह सोचा की
क्यों न अपने अंदर पैदा होने बाली इस घुटन को
बाहर निकालूं और कुछ लिखूं ताकि आने बाला कल ये जान सके की सच क्या है ................

Tuesday, September 6, 2016

स्वास्थ्य, शिक्षा और रोजगार”

सच पूछो तो, न दवा दर्द कम करती है और न शराब,
यह तो सब बहाने हैं जिंदगी से लडने के,
कभी यह जीत जाती है, तो कभी हार,
आखिर हकीम भी क्या करे इसका इलाज़,
वो तो नव्ज़ देखता है और ढूँढता है सिर्फ घाव,

पलभर में ही आँख पत्थर हो जाती हैं और खामोश हो जाती है आव़ाज,
रूह छोड़ जाती है ज़िस्म को और मौत बनकर रह जाती है एक राज.....

फिर आती है बुदिजीविओं के साथ समाज की तीसरी आँख,
मौत के कारणों पर बहस करबाती  है और खूब चमकाती है व्यापार,

न जाने कितने ही मुर्दा घरों से गुजरती है यह लाश,
पहले मोहन की फिर सोहन की और फिर हो जाती अनजान,

क्या करे यही है आज देश का हाल, 
आसमान पर रहने की बात करते हैं,

मगर धरती पर अब भी दबे पड़े हैं, 
“स्वास्थ्य, शिक्षा और रोजगार”

                                                                                     
    प्रदीप सिंह राणा........................
                                  
गावंऔच , डाकघर -लाहडू, तहसीलजैसिंघपुर,
जिला -काँगड़ा हि.प्र. Mob. 980551021                                  Email: rana.pradeep83@gmail.com



No comments:

Post a Comment